योगीराज में कराह उठा कुख्यात मुख्तार अंसारी, बीबी पर गैंगस्टर लगाने के बाद अब मुख्तार के दोनों बेटे घोषित हुए इनामी अपराधी

0
329

एकसमय अपनी गुंडागर्दी के दम पर सत्ता तथा कानून को अपना गुलाम समझने वाला मुख्तार अंसारी योगीराज में कराह उठा है. योगी सरकार मुख्तार अंसारी से चुन चुन कर उसके काले कारनामों का हिसाब ले रही है. अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर मुख्तार अंसारी के साथ ही उसके दोनों बेटों पर भी शिकंजा कसने की तैयारी शुरू हो गई है.

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने मुख्तार के दोनों बेटों को इनामी अपराधी घोषित कर दिया है. पुलिस कमिश्नर के आदेश के मुताबिक, मुख्तारी अंसारी के बेटों उमर और अब्बास पर 25-25 हज़ार का इनाम घोषित किया गया है। दोनों के खिलाफ कुछ दिन पहले अवैध कब्जे के मामले में एफआईआर हुई थी. लखनऊ में उनके अवैध कब्जे वाली दो इमारतों को ढहा भी दिया गया था.

इस मामले में जियामऊ के लेखपाल सुरजन लाल ने मुख्तार अंसारी और उनके बेटे उमर व अब्बास के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में जालसाजी, साजिश रचने, जमीन पर अवैध कब्जा करने के आरोप में केस दर्ज कराया था. सुरजन लाल का आरोप था कि जिस जमीन पर मुख्तार के बेटों ने टॉवर बनवाए थे, वह मो. वसीम की थी. करोड़ों रुपये की अनाधिकृत जमीन से कब्जा हटवाने के बाद प्रशासन ने मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसा अंसारी व उनके साले सरजील रजा और अनवर शहजाद पर गैंगस्टर की कार्रवाई की है.

मुख्तार के साथ मिलकर सभी संगठित आपराधिक गिरोह के रूप में अपराध करते है। सभी के खिलाफ गाजिपुर कोतवाली में गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. बता दें कि योगी सरकार ने मुख्तार अंसारी और उसके गैंग के आर्थिक साम्राज्य पर गहरी चोट की है। अबतक गिरोह की सालाना 48 करोड़ रुपये की आय बंद की जा चुकी है. पुलिस ने वाराणसी जोन के अलग-अलग जिलों में प्रतिबंधित मछली कारोबार, स्टोरेज, गिरोह बनाकर वसूली, कोयला कारोबार, बूचड़खाना समेत अन्य अवैध धंधों पर अंकुश लगाकर तगड़ी चोट दी है. पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक मुख्तार गैंग को मछली कारोबार से ही करीब 33 करोड़ रुपये की सालाना आय होती थी. बाकी आय दूसरे अवैध कार्यों से होती थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here