स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 में 17वें रैंकिंग पर वाराणसी कैंट स्टेशन

0
242

वाराणसी – स्वच्छता सर्वे के आधार पर क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया ने देश के मुख्य रेलवे स्टेशनों की रैकिंग की लिस्ट जारी की है. जिसमे से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी स्वच्छता के मामले में रैंकिंग में पीछे हो गया हैं. बताया जा रहा है की वाराणसी के कैंट स्टेशन की रैकिंग पिछले साल के मुकाबले 17 पायदान से नीचे चली गई है. जहाँ वाराणसी स्टेशन की सफाई व्यवस्था में हर महीने करीब 20 लाख रुपए खर्च होते हैं. फिर भी वहा के स्टेशन की स्वच्छता में ऐसी हालत हैं. हालांकि जो हाल ही में ताजा रैकिंग जारी हुई है, उसमे वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन ने टॉप 100 में अपनी जगह अभी भी बरकरार रखे हुई है. लेकिन, बताया जाता हैं की पहले वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन की रैकिंग 69 पर थी जो अब गिरकर 86 पर आ गई है. यह बात चौका देने वाली है की स्टेशन की सफाई पर 20 लाख रूपए खर्च होते हैं, फिर भी रैंकिंग का गिरना एक बड़ा सवाल खड़ा करता है.
इस बार कैंट स्टेशन को 1000 अंक में से 827.33 अंक मिले हैं. यह रैकिंग यात्रियों के फीडबेक में मिले नंबर के आधार पर गिरी है. जहाँ यात्रियों के फीडबैक में कैंट स्टेशन को सिर्फ 286.50 अंक ही मिले हैं. वही वाराणसी शहर के दूसरे स्टेशनों की तो मंडुवाडीह स्टेशन और आजमगढ़ स्टेशन जैसे स्टेशन की भी रैंकिंग बहुत कम बताई जा रही हैं. मंडुवाडीह की रैकिंग 272वीं है तो आजमगढ़ की 203. वही इन बड़े स्टेशनों से अच्छी रैकिंग बलिया जैसे छोटे स्टेशन की है. बलिया 394 पर और पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन इस बार 68वें रैकिंग पर पहुंचा है. इससे पता चलता है की कई छोटे इलाके सफाई व्यवस्था से प्रभावित हुए है. फिर भी तमाम कोशिशो के बाद भी सर्वे की रैकिंग की सच्चाई से अफसरों को स्वीकारना पड़ेगा और कोशिश करनी होगी. ताकि अगली बार रैकिंग सुधारने अच्छे अंक पर आ सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here