छात्रों से IND-AUS टेस्ट सीरीज का जिक्र कर बोले PM मोदी- मौका मिलते ही खिलाडियों ने बना दिया इतिहास, उनसे सीखें

0
366

ऑस्‍ट्रेलिया में भारतीय क्रिकेट टीम को कुछ दिन पहले मिली ऐतिहासिक जीत फैंस के जेहन में हमेशा तरोताजा रहेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस जीत से बेहद प्रभावित हुए हैं. उन्‍होंने जीत के बाद तो ट्वीट कर टीम इंडिया को बधाई दी ही थी, अब उस सीरीज के किस्‍सों से युवाओं को प्रेरित करने की कोशिश कर रहे हैं. असम की तेजपुर यूनिवर्सिटी के 18वें दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने भारतीय टीम की जीवटता का जिक्र किया.

मोदी ने कहा कि हमारे युवा देश का मिजाज, उसका अंदाज कुछ हटकर है. इसका एक ताजा उदाहरण हमने क्रिकेट की दुनिया में देखा है. मोदी ने युवाओं से कहा कि आप लोगों में से बहुतों ने भारतीय क्रिकेट टीम के ऑस्‍ट्रेलिया टूर का फॉलो किया होगा. इस टूर में क्‍या-क्‍या चुनौतियां हमारी टीम के सामने नहीं आईं. हमारी इतनी बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत हासिल की.

पीएम मोदी ने कहा कि चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैच बचाने के लिए मैदान पर डटे रहे। चैलेंजिंग कंडिशन्स में निराश होने के बजाय हमारे युवा खिलाड़ियों ने चैलेंज का सामना किया. नए समाधान तलाशे. कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था लेकिन हौसला उतना ही बुलंद दिखा. उनको जैसे ही मौका मिला, उन्‍होंने इतिहास बना दिया. एक बेहतर टीम को अपने टैलेंट और अपने टेम्‍परामेंट पर… वो ताकत थी कि उन्‍होंने एक अनुभवी टीम को पराजित कर दिया.

क्रिकेट के मैदान पर हमारे खिलाड़‍ियों की ये परफॉर्मेंस सिर्फ खेल के लिहाज से महत्‍वपूर्ण नहीं है, इससे कई जीवन सदेश मिलते हैं. पहला लेसन ये कि हमें अपनी एबिलिटी पर विश्‍वास होना चाहिए, कॉन्फिडेंस होना चाहिए. दूसरा लेसन हमारे माइंडसेट को लेकर है. हम अगर पॉजिटिव माइंडसेट से लेकर आगे बढ़ते हैं तो रिजल्‍ट भी पॉजिटिव ही आएगा. तीसरा और सबसे अहम लेसन… अगर आपके पास एक तरफ सेफ निकल जाने का ऑप्‍शन हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्‍प हो तो आपको विजय का ऑप्‍शन जरूर एक्‍सप्‍लोर करना चाहिए. अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लगे तो इसमें कोई नुकसान नहीं.

पीएम मोदी ने डिग्री हासिल करने वाले युवाओं से कहा कि आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण है. आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है. सबसे बड़ी बात आज से आपके करियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है. उन्‍होंने कहा कि हमारी सरकार आज जिस तरह नार्थ ईस्ट के विकास में जुटी है, जिस तरह कनेक्टिविटी, शिक्षा और स्वास्थ्य हर सेक्टर में काम हो रहा है, उससे आपके लिए अनेकों नई संभावनाएं बन रही हैं. इन संभावनाओं का पूरा लाभ उठाइए.

पीएम मोदी ने कहा कि असम यूनिवर्सिटी जो कर रहा है उसे जो भी सुनेगा उसे गर्व होगा. आप वाकई कमाल कर रहे हैं. मैंने सोचा कि इसकी प्रेरणा आपको कहां से मिलती है. इसका जवाब यूनिवर्सिटी में ही है. यहां के हॉस्टलों का नाम पर्वतों और नदियों पर हैं. जीवन में अनेक मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. एक पर्वत चढ़ते हैं, तो दूसरा सामने होता है. हर चीज में नई चुनौतियों से सीखते हैं. नदिया भी सिखाती हैं कि ज्यादा से ज्यादा ज्ञान लेकर आगे बढ़ते रहो.

अभी अवॉर्ड देने से पहले यूनिवर्सिटी एंथम जो गाया गया वह तेजपुर यूनिवर्सिटी के महान इतिहास को नमन करता है. इसकी पंक्तियां मैं दोहराना चाहता हूं. इन्हें असम के गौरव और भारत रत्न भूपेन हजारिका जी ने लिखा है. अग्नीगडर स्थापत्य, कलिया भोमोरा, सेतू निर्माण, ज्ञान ज्योतिर्मय स्थेई स्थान विराजते, तेजपुर विश्वविद्यालय. यानी जहां अग्नी गढ़ जैसा स्थापत्य, कलिया भोमोरा जैसा सेतु हो, ज्ञान की ज्योति हो ऐसे स्थान पर विराजमान है तेजपुर यूनिवर्सिटी.

तेजपुर विश्वद्यालय की एक पहचान अपने इनोवेशन सेंटर के लिए भी है. आपके ग्रास रूट इनोवेशन वोकल फॉक लोकल को भी नई ताकत देते हैं. ये इनोवेशन स्थानीय समस्याओं को सुलझाने में काम आ रहे हैं जिससे विकास के नए द्वार खुल रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here