भारतीय सेना के हाथों मारे गए चीनियों के शव उठाने के लिए भारतीय सेना को सूचित किया था PLA ने, तब भेजे थे हेलिकॉप्टर

0
160
लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सेना व चीनी सैनिकों के बीच बड़ा टकराव हुआ है जिसमें 20 भारतीय जवान वीरगति को प्राप्त हो गए हैं. इसके बाद भारतीय सेना रौद्र रूप धारण किया तथा सिंह की भांति चीनियों पर टूट पड़े. देखते  चीनी सेना में खलबली मच गई. इस दौरान भारतीय सेना के जवानों ने अदम्य साहस, शौर्य तथा पराक्रम का परिचय देते हुए 43 चीनी सैनिकों को मार गिराया तथा बड़ी संख्या में चीनी घायल भी हुए हैं.
सूत्रों के अनुसार अपने सैनिकों के शवों को वापस लेने के लिए चीन ने सीमा पर हेलीकॉप्टर भेजे. इससे पहले चीन की सेना ने भारतीय सेना और वायुसेना को इसकी जानकारी दी. चीन के दो सर्च रैस्क्यू हेलीकॉप्टर, देर रात भी लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल पर अपनी सीमा के अंदर मंडराते रहे. माना जा रहा है कि मारे गए चीनी सैनिकों की तादाद कम नहीं है और इसी लिए हेलीकॉप्टर उनको यहाँ से रेस्क्यू करने आया था. ये चीनी हेलिकॉप्टर का ऑपरेशन देर रात तक जारी रहा.
चाइनीज हेलीकॉप्टर ने बॉर्डर के नजदीक आने से पहले भारतीय सेना और वायुसेना को इन्फॉर्म किया था. चीनी सेना ने भारतीय पक्ष को बताया था कि ये हेलीकॉप्टर चाइना के जवानों को ले जाने के लिए लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल के बेहद नज़दीक आ रहे हैं. चाइनीज़ एयर फ़ोर्स को इस बात का श़क था कि कहीं हिट ओफ वार में भारतीय सेना कोई कार्रवाई न कर दे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here