पीएचडी करने के बाद हिलाल अहमद ने उठाई बंदूक तथा भारत में तबाही मचाने के लिए शामिल हो गया इस्लामिक आतंकी दल हिज्बुल में

0
182

उसने हिन्दुस्तान की हवा में सांस ली, हिंदुस्तान की माटी में पला बढ़ा, हिंदुस्तान की सरकार से मिलने वाली सभी सुविधाएं ली, पीएचडी की. इसके बाद भी हिंदुस्तान की बर्बादी का संकल्प लेते हुए उसने हथियार उठाये तथा इस्लामिक आतंकी दल हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया. हिंदुस्तान की सरकार को उम्मीद थी कि पीएचडी स्कॉलर हिलाल अहमद हिंदुस्तान के विकास में अपना योगदान देगा लेकिन इसके बजाय हिलाल हिंदुस्तान को तबाह करने का सपना लिए हिज्बुल का आतंकी बन गया है.

खबर के मुताबिक़, जम्मू-कश्मीर के एक 26 वर्षीय युवक के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने का दावा कश्मीर पुलिस ने किया है. श्रीनगर का रहने वाला पीएचडी स्‍कॉलर हिलाल अहमद डार 13 जून को अपने दोस्तों के साथ एक ट्रैकिंग अभियान के दौरान अचानक से लापता हो गया और और पुलिस के दावे के अनुसार, बाद में उसने आतंकी संगठन हिजबुल जॉइन कर लिया है.

आइजीपी श्रीनगर विजय कुमार ने खुलासा किया है कि बेमिना का रहने वाला युवक हिलाल अहमद डार हिजबुल-उल-मुजाहिदीन में शामिल हो गया है. आइजीपी ने यह जानकारी भी दी कि कश्मीर विश्वविद्यालय का छात्र हिलाल गत माह नवाकदल मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल कमांडर जुनैद सहराई का दोस्त था जो आतंकी संगठन में शामिल हो चुका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here