गलवान घाटी में तैनात जवानों के लिए पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी बहनें बना रही हैं राखियां

0
60
रक्षा संकल्प का पावन पर्व रक्षाबंधन आने वाले वाला है. 3 अगस्त को दुनियाभर में हिंदू समाज रक्षाबंधन मनाएगा. इस बीच देश की राजधानी दिल्ली से एक ऐसी खबर सामने आई है, जो भावुक करने वाली है, गर्व करने वाली है. खबर के मुताबिक़, दिल्ली के मजनूं का टीला में रहने वाली पाकिस्तानी हिन्दू शरणार्थी बहनें सेना के जवानों के लिए आत्मनिर्भर राखियां बना रही हैं. इन राखियों को गलवान में तैनात जवानों के लिए भेजा जाएगा.
बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली के मजनूं का टीला इलाके में रह रहे पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी छोटे मोटे काम करके अपना गुज़ारा कर रहे थे, लेकिन लॉकडाउन में इनके पास कोई काम नहीं है. यहां रह रहीं महिलाओं को आरएसएस की सेवा भारती संस्था ने राखी बनाने का काम दिया है, जिसके बदले इन्हें मेहनताना भी दिया जायेगा. गलवान घाटी में तैनात जवानों को ये राखियां सेवा भारती संस्था की ओर से पहुंचाई जाएंगी.
राखी बनाने वाली सरस्वती का कहना है कि सीमा पर तैनात हमारे भाई देश की रक्षा में लगे हैं और उनकी रक्षा के लिए उनकी बहनें अपने हाथ से राखी बनाकर भेज रही हैं. ये हमारे लिए खुशी की बात है. सेवा दल के कार्यकर्ता संदीप राखी बनवाने का काम देख रहे हैं. संदीप का कहना है कि इससे यहां रह रही महिलाओं को रोज़गार भी मिल रहा है और सीमा पर तैनात हमारे जवानों तक बहनों का प्यार और रक्षाकवच भी पहुंचाया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here