कमलेश तिवारी हत्याकांड के आरोपियों पर बड़ी कार्यवाई.. लगाया गया रासुका

0
128
हिंदू राष्ट्रवादी नेता रहे कमलेश तिवारी हत्याकांड के दो आरोपियों के खिलाफ बड़ी कार्यवाई की गई है. खबर के मुताबिक़, कमलेश तिवारी मर्डर केस में दो आरोपियों पर लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने रासुका की कार्रवाई की है. दरअसल, हत्यारोपी यूसुफ खान और सैय्यद आसिम अली ने अदालत में अपनी जमानत की अर्जी लगाई थी. इसकी जानकारी मिलते ही डीएम ने सोमवार को उनपर रासुका लगा दी. अब दोनों को जमानत नहीं मिलेगी. दोनों आरोपी लखनऊ कारागार में बंद हैं.
बता दें कि हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या 18 अक्टूबर 2019 को राजधानी लखनऊ में हुई थी. आरोपियों ने उनके पार्टी कार्यालय में घुसकर उनकी निर्मम हत्या कर दी थी. हत्यारे उनकी पार्टी के लिए कार्य करने के बहाने से उनसे मिलने आए थे. हिंदूवादी नेता की राजधानी में हुई निर्मम हत्या से सभी स्तब्ध रह गए थे. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक कमलेश तिवारी को 15 बार चाकू से गोदा गया था और फिर उनके चेहरे पर भी गोली मारी गई थी.
इस मामले में गुजरात एटीएस ने मौलाना मोहसिन शेख सलीम, रशीद अहमद पठान और फैजान को गिरफ्तार किया था. पूछताछ में हत्या करने वालों के नाम सूरत के ही रहने वाले अशफाक और मोइनुद्दीन के नाम सामने आए थे. गुजरात एटीएस ने 22 अक्टूबर को दोनों को गिरफ्तार कर लिया था. कमलेश तिवारी की हत्या मामले में एसआईटी ने लखनऊ की मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट में 24 दिसम्बर 2019 को 13 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी.
इनमें शूटर अशफाक, मोइनुद्दीन, साजिशकर्ता शेख सलीम, राशिद पठान, फैजान, आसिम अली, मोहम्मद जाफर सादिक और मददगार नावेद, मौलाना मुफ्ती कैफी, कामरान, रईस, आसिफ और यूसुफ खान शामिल हैं. इस मामले में हत्यारों की शिनाख्त शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद के रूप में हुई थी, जिन्होंने भगवा कुर्ता पहनकर कमलेश के ऑफिस में ही ताबड़तोड़ चाकुओं के वार से हत्या की थी. वहीं एनएसए आसिम अली और युसूफ खान पर लगाया गया है. इसमें हत्यारों की मदद के आरोप में बरेली से पकड़े गए मोहम्मद कैफी अली को जमानत मिल चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here