मथुरा: शिक्षक भर्ती घोटाले के मास्टरमाइंड रविंद्र सिंह, डीएम के आदेश पर 75 लाख की संपत्ति कुर्क

0
95

 

मथुरा: शिक्षक भर्ती घोटाले के आरोपी के 75 लाख रुपये की संपत्ति मुनादी कराकर कुर्क की गई। इसमें एक मकान और दो प्लॉट शामिल हैं। यह कार्रवाई बुधवार को पुलिस-प्रशासन की टीम ने की तो खलबली मच गई। टीम के पहुंचने से पहले आरोपी भाग खड़ा हुआ। पुलिस-प्रशासन की टीम ने संपत्ति को सील कर दिया है।

2019 में गैंगस्टर में भी कार्रवाई हुई थी

थाना बलदेव के गांव भरतिया निवासी रविंद्र सिंह पुत्र रामवीर सिंह के खिलाफ साल 2018 में शहर कोतवाली में फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज हुआ था। उस पर शिक्षक भर्ती घोटाले का आरोप लगा था। हालांकि गिरफ्तारी के बाद ही उस से अगले साल 2019 में गैंगस्टर में भी कार्रवाई हुई थी। शिक्षक भर्ती घोटाले से धन अर्जित करने वाले आरोपी के खिलाफ छह अप्रैल को डीएम नवनीत सिंह चहल ने आरोपी रविंद्र सिंह की संपत्ति कुर्क करने के आदेश कर दिए। आदेश मिलते ही बुधवार को पुलिस और प्रशासन की टीम उसके वर्तमान पते एटीवी के पीछे गणेश कुंज कॉलोनी में पहुंची।

कौन है रविंद्र सिंह ?

सीओ सिटी वरुण कुमार ने बताया कि मथुरा में एक चर्चित टीचर्स भर्ती घोटाला हुआ था. उसका अभियुक्त रविंद्र सिंह ग्राम भरतिया, थाना बलदेव का मूल निवासी है. उसके द्वारा अपराधिक गतिविधियों से जो भी संपत्तियां अर्जित की गई थी, करीब उनकी 75 लाख की संपत्तियां जिलाधिकारी के आदेश के अनुपालन में आज कुर्क की जा रही हैं. 14 गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत.

फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले की परतें 2018 में खुलनी शुरू हुई थीं

जिसमें मथुरा में कई मुकदमे इस टीचर भर्ती घोटाले के संबंध में दर्ज हुए थे. रवींद्र मामले का मास्टरमाइंड था. अभियुक्त रविंद्र सिंह ने आपराधिक कृत्यों के द्वारा भारी मात्रा में अवैध रूप से संपत्तियां अर्जित की गई थीं, जिस पर गैंगस्टर का मुकदमा लगाया गया था और उसी में गैंगस्टर एक्ट के 14 (1) के अंतर्गत उसके द्वारा अवैध रूप से जो भी संपत्ति अर्जित की गई थी, वह जिलाधिकारी के आदेश के अनुपालन में संपत्तियां कुर्क की गयी है

                                                                                               DEEPAK SHAMA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here