Love Jihad: युवती को अगवा करने के आरोपित सलमान ने आगरा पुलिस से बचने के लिए 28 दिन तक पांच राज्यों में ली लव जिहाद के आरोपित ने शरण

0
210

 

आगरा. आगरा पुलिस को चकमा देने के लिए युवती को अगवा करने के आरोपित सलमान ने 28 दिनों में पांच राज्यों की शरण ली। किसी भी जगह सप्ताह भर से ज्यादा नही रुका। इसके बावजूद लव जिहाद के आरोपित सलमान को पुलिस ने उसे खोज निकाला। बुधवार की दोपहर उसे आइएसबीटी पर घेराबंदी करके दबोच लिया। युवती को भी बरामद कर लिया है। उसने पुलिस को दिए बयान में सलमान पर बहला फुसलाकर करके ले जाने का आरोप लगाया। युवती का कहना है कि आरोपित ने उसे अपने रिश्तेदारो और परिचितों के यहां जबरन बंधक बनाकर रखा था।

आरोपित सलमान ने पूछताछ में पुलिस को बताया

वह 27 तारीख की रात को युवती को लेकर भागने के बाद सीधे प्रयागराज गया था। इसी दौरान उसे शाहगज में बाजार बंद कराने और धरना-प्रदर्शन का पता चला तो वह दिल्ली भाग गया। उसे आभास हाे गया था कि पुलिस उसका पीछा कर रही है। इसलिए वह लगातार अपनी लोकेशन बदलता रहा था। उसने दिल्ली, मध्य प्रदेश के होशंगाबाद, महाराष्ट्र, गुजरात और कर्नाटक में शरण ली।

अागरा पुलिस द्वारा लगातार दबिश देने और रिश्तेदारों पर शिकंजा कसने से वह परेशान हो गया था। उसे लगने लगा था कि पुलिस कभी भी उस तक पहुंच सकती है। इसलिए लौटकर आगरा आया था। पुलिस ने आरोपित को अदालत में प्रस्तुत किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। वहीं युवती का मेडिकल कराने के बाद पुलिस उसे अदालत में बयान दर्ज कराने को प्रस्तुत करेगी।

ये है पूरा मामला

शाहगंज क्षेत्र निवासी युवती 27 जनवरी की आधी रात को गायब हो गई थी। पिता ने सोरों कटरा निवासी सलमान कुरैशी के खिलाफ पुत्री को अगवा करने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया था। मामले में हिंदूवादी संगठनों ने लव जिहाद का आराेप लगाते हुए 28 जनवरी को बाजार बंद करा दिया था। वह परिवार वालों के साथ धरने पर बैठ गए थे। अधिकारियों द्वारा आरोपित की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन देने के बाद लोग धरने से उठे थे। इंस्पेक्टर शाहगंज सत्येंद्र सिंह राघव ने बताया आरोपित सलमान की गिरफ्तारी को पांच टीम लगी थीं। बुधवार को तीसरे पहर सलमान और युवती के आइएसबीटी पर पहुंचने का पता चला। पुलिस ने घेराबंदी करके आरोपित को दबोच लिया। युवती को भी बरामद कर लिया है।

एक दिन पहले परिवार को भेज दिया रिश्तेदारी में

आरोपित सलमान ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि युवती को ले जाने के बाद उसे पता था कि पुलिस परिवार को परेशान करेगी। इसके चलते उसने परिवार को 26 जनवरी की शाम को ही रिश्तेदारी में भेज दिया था। उसका अनुमान सही निकला। पुलिस ने उसके रिश्तेदारों और परिचितों के यहां दबिश दीं।

 DEEPAK SHARMA

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here