देश में शुरू की गई “गोडसे गोडसे ज्ञानशाला’, कहा- वे थे सच्चे राष्ट्रवादी, इसलिए की गई शुरू

0
254

गांधी वध करने वाले नाथूराम गोडसे को लेकर एक बार फिर से बड़ी खबर सामने आई है. खबर के मुताबिक़, नाथूराम गोडसे के नाम पर देश के एक शहर में ज्ञानशाला खोली गई है. ये “गोडसे ज्ञानशाला” मध्यप्रदेश के ग्वालियर में हिंदू महासभा द्वारा शुरू की गई है. इस ज्ञानशाला में गोडसे और देश विभाजन से जुड़े तथ्यों को युवा पीढ़ी को बताने का काम किया जाएगा.

ग्वालियर में दौलतगंज क्षेत्र में अखिल भारतीय हिंदू महासभा का कार्यालय है. इस कार्यालय में महासभा के पदाधिकारियों ने ज्ञानशाला की शुरुआत की. इस स्थल पर वीर सावरकर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना करने वाले डॉ. हेगडेवार और श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र वाले पोस्टर लगाए गए थे. इस दौरान हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. जयवीर भारद्वाज ने आरोप लगाया कि देश विभाजन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है.

इसके कारण अखंड भारत के दो टुकड़े हुए और करीब 5 लाख हिन्दुओं की हत्या की गई तथा 20 लाख से ज्यादा हिन्दू विस्थापित हुए. उन्होंने कहा कि देश विभाजन को कांग्रेस ने स्वीकार किया और उसके कारण आज पाकिस्तान दुश्मन है और भारत का बहुत बड़ा धन उसके साथ सुरक्षा में खर्च होता है। उन्होंने कहा कि यही नहीं, कांग्रेस ने ही देश में हिन्दू और मुसलमान के बीच नफरत बढ़ाई.

इसी कारण कांग्रेस ने नाथूराम गोडसे और नारायण राव आप्टे का अदालत में दिया गया बयान 50 वर्षों तक बाहर नहीं आने दिया. महात्मा गांधी की हत्या करने के जुर्म में गोड़से एवं आप्टे को 15 नवंबर 1949 को अंबाला की जेल में फांसी की सजा दी गई थी. भारद्वाज ने बताया कि अब हिन्दू महासभा इसी इतिहास को नई पीढ़ी को बताने के लिए ग्वालियर में दौलतगंज स्थित कार्यालय में गोडसे की ज्ञानशाला शुरू कर रही है.

इस ज्ञानशाला में गोडसे के अलावा राष्ट्र निर्माण करने वाले दूसरे महापुरुषों, गुरु गोविंद सिंह, छत्रपति शिवाजी, महाराणा प्रताप, डॉ. हेडगेवार, पंडित मदन मोहन मालवीय से जुड़ा इतिहास भी बताएगी. वहीं, विपक्ष ने इस ज्ञानशाला को लेकर तंज कसा है. कांग्रेस के नेता केके मिश्रा ने ट्वीट कर कहा कि आज ग्वालियर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की विधिवत पूजा-अर्चना और आरती के बाद उसकी ज्ञानशाला की शुरुआत हुई, कार्यक्रम स्थल पर बाकायदा श्यामाप्रसाद मुखर्जी, डॉ.केशव बलिराम हेडगेवार की भी तस्वीरें लगी थीं! प्रदेश सरकार, संघ कबीले व भाजपा की यह नूरा-कुश्ती क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here