विवाद के बाद भी भारत ने निभाई नेपाल से दोस्ती … दान की कोरोना वैक्सीन की 10 लाख डोज

0
354

पड़ोसी मुल्क नेपाल चीन के इशारे पर पिछले कुछ समय से भारत को लगातार आँखें दिखा रहा है. लेकिन इसके बाद भी भारत ने पुराने संबंधों को देखते हुए कोरोना वैक्सीन की 10 लाख डोज नेपाल को दान की हैं. नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कोरोना वायरस वैक्सीन की खुराकों की आपूर्ति करने के लिए भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहा है.

इससे पहले इससे पहले नेपाल के स्वास्थ्य एवं जनसंख्या मामलों के मंत्री ने बताया था कि भारत अनुदान सहायता के तौर पर पड़ोसी देश को कोविड-19 टीके की 10 लाख खुराक उपलब्ध कराएगा. केपी शर्मा ओली ने ट्वीट कर पीएम मोदी और भारत सरकार को नेपाल को 10 लाख कोविड वैक्सीन की खुराकें देने के लिए धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा है कि भारत ऐसे वक्त में नेपाल की मदद कर रहा है जब वह खुद अपने देश में लोगों को वैक्सिनेट कर रहा है. उन्होंने ‘दोस्ताना पड़ोसी’ के इस कदम की सराहना की है.

इससे पहले नेपाल के स्वास्थ्य मंत्री हृदयेश त्रिपाठी ने बताया था कि भारत ने अनुदान सहायता के तहत नेपाल को कोविड-19 टीके की 10 लाख खुराक उपलब्ध कराई है. मंत्री के मुताबिक पहले चरण में टीका कोरोना वायरस के खिलाफ अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्यकर्मियों, कर्मचारियों व सुरक्षाकर्मियों को लगाया जाएगा. नेपाल ने पिछले हफ्ते सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविशील्ड टीके के इस्तेमाल को लेकर सशर्त इजाजत दे दी थी.

नेपाल के स्वास्थ्य मंत्री हृदयेश त्रिपाठी ने अनुदान सहायता के लिये भारत का शुक्रिया अदा किया और उम्मीद जताई कि आने वाले दिनों में नेपाल की जरूरत के मुताबिक और टीकों की खरीद में भी उसे पड़ोसी देश से मदद मिलेगी. आपको बता दें कि नेपाल में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 2,68, 310 है जबकि यहां 1975 लोग महामारी से अपनी जान गंवा चुके हैं.

भारत ने मंगलवार को कहा था कि वह भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यामां और सेशल्स को बुधवार से अनुदान सहायता के तौर पर कोविड-19 के टीके भेजेगा जबकि श्रीलंका, अफगानिस्तान और मॉरीशस के लिये जरूरी नियामक मंजूरी मिलने के बाद आपूर्ति शुरू की जाएगी. भारत की ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति के तहत अनुदान सहायता के तौर पर कोविड-19 टीका प्राप्त करने वाले भूटान और मालदीव पहले राष्ट्र बने.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here