हिंदू जनजागृति समिति ने की अक्षय कुमार की फिल्म Laxmmi Bomb पर प्रतिबंध लगाने की मांग… लगाया लक्ष्मी देवी का अपमान करने व Love Jihad को प्रोत्साहन देने का आरोप

0
189

दीपावली की पृष्ठभूमि पर अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म ‘लक्ष्मी बम’ 9 नवंबर को प्रदर्शित होनेवाली है. दीपावली की पृष्ठभूमि पर उसका नाम हेतुतः ‘लक्ष्मी बम’ रखा गया है. इसलिए हमारी पहली आपत्ति इस फिल्म के नाम को है तथा इससे करोडों हिन्दुओ की देवी माता श्रीलक्ष्मीदेवी का अनादर किया गया है. एक ओर हिन्दू देवता का अपमान करनेवाले ‘लक्ष्मी पटाखे’ बंद करने के लिए हम गत अनेक वर्षों से उद्बोधन कर रहे हैं, इस फिल्म के नाम के कारण उन्हें पुनः प्रोत्साहन ही मिलने वाला है.

उसी प्रकार इस फिल्म के नायक का नाम आसिफ और नायिका का नाम ‘प्रिया यादव’ रखा गया है अर्थात उससे मुसलमान युवक और हिन्दू युवती के संबंध दिखाकर हेतुतः ‘लव जिहाद’ को प्रोत्साहन ही दिया गया है. इसलिए ‘लक्ष्मी बम’ फिल्म के प्रदर्शन पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाए, ऐसी मांग हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. रमेश शिंदे ने की है.

श्री शिंदे का कहना है कि, एक ओर ‘मोहम्मद: द मेसेंजर ऑफ गॉड’ नामक फिल्म के कारण मुसलमानों की धार्मिक भावनाएं आहत होती हैं, इसलिए महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने स्वयं संज्ञान लेकर उस पर तुरंत प्रतिबंध लगाने की सिफारिश केंद्र सरकार से की थी. उसी धर्ती पर हिन्दुओ के देवताओ का अपमान करनेवाले फिल्म ‘लक्ष्मी बम’ पर भी सरकार प्रतिबंध लगाने की सिफारिश करे, ऐसी मांग भी हिन्दू जनजागृति समिति ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री श्री. अनिल देशमुख से की है.

इस फिल्म के ट्रेलर में अक्षय कुमार एक प्रेतबाधित की भूमिका कर रहा है. उसका भूत तृतीय पंथीय होने का आभास हो रहा है. उसी प्रकार बडा लाल कुमकुम, लाल साडी, केश खुले छोडना, हाथ में त्रिशूल लेकर नाचना, मानो देवी का रूप दिखाने का प्रयत्न किया गया है, यह अत्यंत निंदनीय है. दीपावली के निमित्त ‘लक्ष्मी बम’ के नाम से फिल्म बनानेवाले क्या कभी ईद के निमित्त ‘आएशा बम’, ‘शबीना बम’, ‘फातिमा बम’ के नाम से फिल्म बनाने का साहस करेंगे ? जिस प्रकार मुसलमानों की धार्मिक भावनाओ का विचार फिल्म निर्माता और शासक करते हैं, वैसा ही विचार हिन्दुओ की धार्मिक भावनाओ का क्यों नहीं करते ? हिन्दुओ से पक्षपात करना ही क्या सर्वधर्मसमभाव की व्याख्या है ? हिन्दू विरोध ही मानो वर्तमान सेक्युलरिजम हो गया है, ऐसा भी श्री. शिंदे ने कहा है.

फिल्म निर्माता शबीना खान और लेखक फरहद सामजी होने के कारण वे हेतुतः हिन्दूद्वेष फैला रहे हैं, ऐसा ध्यान में आता है. यदि इन मांगों की उपेक्षा की गई, तो तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी भी श्री. शिंदे ने दी है.

श्री. रमेश शिंदे,
राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिन्दू जनजागृति समिति,
संपर्क : 9987966666

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here