हरियाणा: तस्करी और वेश्यावृति का शिकार हुई बांग्लादेशी लड़की काेर्ट में वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए देगी गवाही

0
157

 

पानीपत: तस्करी और वेश्यावृति का शिकार हुई बांग्लादेशी लड़की काेर्ट में वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए गवाही देगी। फिलहाल वह बांग्लादेश में है, अब काेर्ट के आदेश पर पुलिस बांग्लादेश एम्बेसी से संपर्क कर गवाही कराने की तैयारी में जुटी है। यह पानीपत में संभवता पहला माैका हाेगा, जब किसी पीड़ित विदेशी लड़की की वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए गवाही हाेगी। काेर्ट के आदेश हैं कि बांग्लादेश में किसी भी राजपत्रिक अधिकारी के सामने या सरकारी ऑफिस में गवाही हाे, जिससे इंश्याेर हाे कि जाे लड़की गवाही दे रही है वह पीड़िता ही है.

आराेपी पक्ष चाहता था कि लड़की पानीपत आकर काेर्ट में गवाही दे

इसके लिए उन्हाेंने सेशन काेर्ट में याचिका डाली। खारिज हाेने पर हाईकाेर्ट गए। वहां भी याचिका खारिज हाे गई। अब 29 जुलाई काे गवाही की तारीख है। सब ठीक रहा ताे गवाही हाे जाएगी। बाल कल्याण समिति के सदस्य डाॅ. मुकेश आर्य ने बताया कि काेर्ट से समन आया ताे मार्च में एसपी काे पत्र लिख दिया था.

एसपी शशांक कुमार सावन ने कहा

गवाही कराने के साथ ही बांग्लादेश एम्बेसी के संबंधित अधिकारी का नंबर और ईमेल आईडी भी दी थी। लड़की गवाही देने के लिए तैयार है। एसपी शशांक कुमार सावन ने कहा कि वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए लड़की की गवाही कराने की फाइल प्राेसेस में है। चूंकि लड़की विदेश में है, इसलिए नियमानुसार गवाही कराने का प्राेसेस लंबा है। हम तय समय में गवाही कराने की पूरी काेशिश करेंगे.

काम सिखाने के बहाने सेक्स रैकेट वालाें काे सौंपा

पुलिस के अनुसार, घटना के समय पीड़िता 17 साल की थी। पढ़ाई छाेड़कर वह ढाका में काम करने लगी। काम करते हुए उसकी एक युवक से दाेस्ती हाे गई। शादी का झांसा और ब्यूटी पार्लर का काम सिखाने के बहाने वह लड़की काे दिल्ली लाया। 3 दिन कमरे पर रखा और फिर रोहिणी में सेक्स रैकेट चलाने वाले राहुल दादा उर्फ इंद्रजीत राय और उसकी पत्नी खुशी राय काे साैंप दिया। खुशी पहले घर में ब्यूटी पार्लर का काम करती थी। दंपती ने लड़की काे गलत काम करने के लिए उकसाया और कहा कि किसी के साथ जाएगी ताे रुपए मिलेंगे। राहुल धमकी देता था कि बात नहीं मानी ताे माता-पिता काे मरवा दूंगा.

पानीपत में 11 हजार रुपए में दाे दिन के लिए बेचा था

आराेप है कि तहसील कैंप के तेज काॅलाेनी निवासी मनु उर्फ नरेंद्र ने राहुल दादा से फाेन कर लड़की मांगी। 4 मई 2019 काे राहुल दादा लड़की काे कार से लेकर पानीपत बस स्टैंड पहुंचा। रास्ते में उसने लड़की काे बातचीत करने के लिए माेबाइल दिया। सूचना पर मनु अपने दाेस्त भगत नगर निवासी अजय के साथ स्कूटी से बस स्टैंड पहुंचे। राहुल ने 11 हजार रुपए लेकर लड़की काे दाे दिन के लिए उनके हवाले कर दिया.

दाे दिन बाद लड़की काे राहुल दादा काे साैंपना था

मनु और अजय लड़की काे अजय के मकान पर ले गए। दाेनाें ने शराब पी, फिर अजय ने उसके साथ गलत काम किया। मनू बाहर खड़ा रहा। इसके बाद लड़की बाथरूम का बहाना बनाकर भाग गई और पड़ाेस के मकान में जाकर छिप गई। वहां एक महिला काे आपबीती बताई। तब लाेगाें ने पुलिस काे फाेन किया। 5 मई 2019 काे सिटी थाना पुलिस ने मानव तस्करी, रेप, पाेस्काे एक्ट व अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था.

चाराें आराेपी हाे चुके हैं गिरफ्तार

पुलिस ने मामले में राहुल दादा, उसकी पत्नी खुशी, अजय और मनू काे गिरफ्तार किया था। आराेप है कि अजय और मनू पानीपत में सेक्स रैकेट चलाते थे। पैसाें में लड़कियाें काे खरीदकर वे पहलेे खुद गलत काम करते थे। बाद में रुपए कमाने के लिए 2500 से 3000 हजार रुपए में दाे घंटे के लिए ग्राहकाें के पास भेजते थे। लड़की थी, इसलिए बाल कल्याण समिति की देखरेख में वह कुछ महीने शेल्टर हाेम में रही। फिर समिति के प्रयास से 23 नवंबर 2019 काे एक एनजीओ के जरिए लड़की काे उसके घर बांग्लादेश भेज दिया गया था.

                                                                                                                दीपक शर्मा

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here