Home राज्य हरियाणा दिल्ली से सटे गुरुग्राम में फर्जी लैब का भंडाफोड़, लोगों से 1200...

दिल्ली से सटे गुरुग्राम में फर्जी लैब का भंडाफोड़, लोगों से 1200 रुपये लेकर कोरोना की मनचाही रिपोर्ट तैयार की जाती थी

0
148

 

सीएम फ्लाइंग स्क्वायड में सब इंस्पेक्टर सुरेशचंद ने बताया कि आरोपितों ने फर्जी कागजातों के आधार पर अपना आधार कार्ड एवं वोटर कार्ड भी बनवा रखा है। दोनों पिछले दो महीने से लैब चला रहे थे। दिल्ली की एक लैब से दोनों की साठगांठ थी।

गुरुग्राम. सीएम फ्लाइंग स्क्वायड की टीम ने शनिवार शाम सैनी खेड़ा गांव में एक फर्जी लैब का भंडाफोड़ किया। लैब का नाम मेडीकार्टज रख रखा था। साथ ही लैब की पूरी रिपोर्ट जब्त करते हुए मौके पर मिले दो संचालकों को गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी पहचान सेक्टर-30 निवासी अनिरबन राय एवं सैनीपुरा निवासी परिमन राय के रूप में की गई। दोनों मूल रूप से पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं।

लैब में लोगों से 1200 रुपये लेकर कोरोना की मनचाही रिपोर्ट तैयार की जाती थी। यही नहीं अलग-अलग लैब की फर्जी रिपोर्ट तैयार करके एक से दो घंटे में लोगों को दे देते थे। प्रारंभिक छानबीन के मुताबिक सात लोगों की रिपोर्ट तैयार करने की जानकारी सामने आ चुकी है। इनमें से दो लोग ऐसे हैं जो लैब से कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट तैयार कराकर विदेश जा चुके हैं।

शनिवार दोपहर सीएम फ्लाइंग स्क्वायड को सूचना मिली थी

सैनी खेड़ा गांव में संचालित एक लैब में मनचाही रिपोर्ट तैयार की जाती है। इसके बाद एक कर्मचारी को लैब में भेजा गया। उसने ब्लड सैंपल देने के बाद कहा कि एक घंटे में रिपोर्ट चाहिए। एक घंटे में कर्मचारी को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट दे दी गई। इस पर कर्मचारी ने कहा कि उसे तो पाजिटिव रिपोर्ट चाहिए। फिर संचालक ने कहा कि इसके लिए आधा घंटा रुकना होगा। आधे घंटे के बाद पाजिटिव रिपोर्ट बनाकर दे दी गई। इसके बाद सीएम फ्लाइंग स्क्वायड की टीम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ लैब में छापेमारी की। जब तक संचालक कुछ समझते तब तक उन्हें दबोच लिया गया।

सीएम फ्लाइंग स्क्वायड में सब इंस्पेक्टर सुरेशचंद ने बताया

आरोपितों ने फर्जी कागजातों के आधार पर अपना आधार कार्ड एवं वोटर कार्ड भी बनवा रखा है। दोनों पिछले दो महीने से लैब चला रहे थे। दिल्ली की एक लैब से दोनों की साठगांठ थी। जांच से पता चलेगा कि कितने लोगों को मनचाही रिपोर्ट तैयार करके दी। जो लोग रिपोर्ट के आधार पर विदेश गए, उनकी भी पहचान की जाएगी। यही नहीं दिल्ली की जिस लैब से साठगांठ थी, उसके बारे में जानकारी हासिल की जाएगी। अनिरबन राय रिपोर्ट तैयार करता था जबकि परिमन राय सैंपल लेता था। 1200 से 1500 रुपये तक प्रति रिपोर्ट वसूली की जाती थी।

  DEEPAK SHARMA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here