राहुल बनकर निकिता को मिला था तौसीफ, पोल खुलने पर किया अपहरण, फिर भी नहीं मानी निकिता तो मार डाला

0
325

हरियाणा के फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ में छात्रा निकिता तोमर की हत्या मामले में पुलिस ने तीसरे आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी तौसीफ अहमद को वारदात में इस्तेमाल देसी कट्टा मुहैया कराने वाले अपराधी अजरू को नूंह जिले से धर दबोचा है। वहीं, निकिता के परिजनों ने बेहद चौकाने वाले जानकारी दी है। निकिता के मामा हाकम सिंह का दावा है कि आरोपी तौसीफ स्कूल में निकिता से राहुल राजपूत बनकर मिला था और उससे दोस्ती की थी। निकिता और तौसीफ एक ही स्कूल में पढ़े हैं।

आरोपी तौसीफ विज्ञान संकाय में एक कक्षा आगे थे, जबकि निकिता वाणिज्य संकाय में थी। परिजनों के दावे के मुताबिक, निकिता किसी से ज्यादा मतलब नहीं रखती थी, इसलिए उसे आरोपी का असली नाम पता नहीं चल पाया था। उसने आरोपी तौसीफ से दोस्ती कर ली। लेकिन जैसे ही उसे पता चला कि आरोपी ने झूठ बोलकर उससे दोस्ती की है तो उससे बातचीत बंद कर दूरी बना ली।

मामा हाकम सिंह ने मुताबिक, असलियत सामने आने पर जब निकिता ने तौसीफ से बातचीत करना बंद कर दिया तो उसने निकिता के साथ जबरदस्ती बात करने की कोशिश की। साल 2018 में निकिता के अपहरण में भी आरोपी ने उस पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया था, लेकिन निकिता ने न केवल धर्म परिवर्तन को लेकर साफ इंकार कर दिया। बल्कि आरोपी से किसी भी तरह की बातचीत करने से मना कर दिया था।

24 अक्टूबर को उसकी निकिता से फोन पर बातचीत हुई। तब भी उसने निकिता से उसके पास आने के लिए दबाव डाला, लेकिन निकिता ने इंकार कर दिया। इसके बाद तौसीफ ने कॉलेज में जाकर निकिता का अपहरण करने की योजना बनाई, लेकिन निकिता और उसकी दोस्त के विरोध के चलते वह सफल नहीं हो सका। जिसकी वजह से उसने निकिता को गोली मार दी और फरार हो गया।

मिली जानकारी के मुताबिक, आरोपी ने 2 महीने पहले ही निकिता की हत्या करने की योजना बना ली थी। आरोपी तौसिफ ने पुलिस पूछताछ में कबूल किया है कि निकिता ने उससे शादी करने से साफ इंकार कर दिया था। इसी वजह से उसने फैसला किया था कि यदि वह मेरी नहीं हो सकती तो मैं उसे किसी और की नहीं होने दूंगा। हत्याकांड के दोनों आरोपी तौशीफ और रेहान 2 दिन की रिमांड हैं। गुरुवार को उनकी रिमांड पूरी हो रही है। पुलिस उन्हें कोर्ट में पेश करेगी।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, आरोपी तौसिफ ने पुलिस द्वारा की गई गहन पूछताछ में बताया है कि वह सन् 2018 में निकिता को शादी की नीयत अपहरण कर ले गया था। उस वक्त भी निकिता ने उससे शादी नहीं की थी। परिजनों द्वारा मामला दर्ज करवाए जाने की वजह से वह उससे शादी नहीं कर पाया था। बाद में आरोपी के परिजनों द्वारा माफी मांगने पर यह मामला खत्म हो गया था। इसके बावजूद आरोपी उससे शादी करना चाहता था। वह उसे काफी प्रयास के बाद भी भूल नहीं पा रहा था। उसे लग रहा था कि निकिता किसी और से शादी करेगी। यह सोचकर वह परेशान हो गया था।

निकिता की हत्या करने के मकसद से उसने पुन्हाना के नजदीक सिंगलहेडी गांव से करीब दो माह पहले कट्टा खरीद लिया था। इसके बाद से ही आरोपी निकिता की तलाश में घूम रहा था। कुछ दिन पहले जब यूनिवर्सिटी ने परीक्षा की डेटशीट जारी की तो वह कॉलेज के सामने घूमने लगा था। हत्या से पहले भी वह तीन-चार बार कॉलेज के सामने पहुंचा था। ताकि मौका मिलते ही निकिता का अपहरण या उसकी हत्या की जा सके।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपी स्कूल में साथ पढ़ा था। इस वजह से छात्रा बातचीत कर लेती थी। मगर, आरोपी एकतरफा प्यार करने लगा। इसी कारण वह सन् 2018 में आरोपी छात्रा को भगा ले गया था। वह किसी भी कीमत पर छात्रा को पाना चाहता था। जब छात्रा ने इंकार किया तो उसने उसकी हत्या कर दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here