शायर मुनव्वर राना ने यूपी की जनसंख्या नियंत्रण नीति पर दिया विवादित बयान, कहां इसलिए जरूरी हैं आठ बच्चे

0
203

मुनव्वर राना ने यूपी में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर टिप्पणी दी जी उन्होंने कहा कि अगर हमारे माननीय मुख्यमंत्री शादीशुदा होते तो हम उनसे पूछते कि आपके कितने बच्चे हैं। उन्होंने शादी नहीं की। कल को वह शादी को भी हराम करार दे सकते हैं कि शादी होना ही कोई जरूरी नहीं है।

अब तो छिपछपाकर बच्चे पैदा कर लो। हमारा तो नजरिया यह है कि दो बच्चे तो आप एनकाउंटर में मार देते हैं। एक कोरोना में मर जाता है। कम से कम एक तो बच जाए जो अपनी अम्मा अब्बा का शव कब्रिस्तान तक पहुंचा दे। दो को तो काकोरी केस में फंसा देंगे। एक कोरोना से मर जाएगा, दवा नहीं मिलती, इंजेक्शन नहीं मिलता, ऑक्सिजन नहीं मिली। अब मां-बाप क्या करेंगे।

आप यह कानून बनाने से पहले यह भी तय कर दीजिए कि जिसके दो बच्चे हैं और किसी घटना में उसके एक बच्चे की मौत हो जाती है तो सरकार बाध्य है कि 50 लाख रुपये मुआवजा देगी। दोनों बच्चे मर जाते हैं तो एक करोड़ रुपये मुआवजा देगी। जिसका बच्चा मर जाता है, वह बुढ़ापे में तो पैदा नहीं कर सकते हैं।

कहा जाता है न कि बच्चे भगवान की, अल्लाह की देन हैं। इतना तो होश आजकल की लड़कियों और उनके पति को है कि दस बच्चे पाले नहीं जा सकते, आठ बच्चे पाले नहीं जा सकते हैं।’ इस बयान से पहले मुनव्वर राना ने कहा था कि अगर असदुद्दीन ओवैसी की वजह से यूपी में योगी दोबारा सीएम बने तो वह प्रदेश छोड़कर कोलकाता चले जाएंगे।

रायबरेली की चंदापुर कोठी में एक निजी कार्यक्रम में उन्होंने पत्रकारों से बातचीच में प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ओवैसी भाजपा के एजेंट है और वह हर चुनाव में भाजपा को समर्थन देते हैं। मुनव्वर राना ने आतंकवादियों पर सरकार की कार्रवाई को गलत बताते हुए कहा कि एटीएस ने आतंकवादी नहीं, बल्कि प्रेशर कुकर पकड़ा है।

मैं भी प्रेशर कुकर खरीद कर लाया था, लेकिन मैंने एटीएस के डर से उसे वापस कर दिया कि कहीं इसमें भी कुछ फिट न कर दिया जाए। धर्मांतरण पर उन्होंने कहा कि हमारे देश का हिंदू इतना कमजोर नहीं है। हिंदू एक संजीदा और बेहतरीन कौम है, जो किसी के बहकावे में नहीं आ सकती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here